सच्चाई मे है दम,इसलिए सच लिखते हैं हम
पाक कला जीवन की सरसता का आधार - डॉ०आशुतोष मिश्रा।

पाक कला जीवन की सरसता का आधार - डॉ०आशुतोष मिश्रा।



 पाक कला जीवन की सरसता का आधार - डॉ०आशुतोष मिश्रा।                              शिक्षण के साथ अपनी संस्कृति और अन्य कलाओं के प्रति अभिरुचि जागृत करने के उद्देश्य से डी ०ए ०वी ० स्कूल,अनपरा में समय - समय पर छात्र- छात्राओं के लिए अनेक प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।    विद्यालय की इसी जागरुकता का परिणाम है कि विद्यालय के नाम न सिर्फ शिक्षा वरन खेल, सांस्कृतिक और अन्य क्षेत्रों में भी रौशन होता रहा है। इसी क्रम में आज कक्षा तीन से पांच तक के विद्यार्थियों के लिए सुलेख, कक्षा छठी से आठवीं तक के छात्र/छात्राओं के लिए बेस्ट ऑफ द वेस्ट और नवीं से बारहवीं तक के विद्यार्थियों के लिए बिना आग जलाए भोजन बनाने की प्रतियोगिता आयोजित की गई। इसमें बड़ी संख्या में छात्र/ छात्राओं ने उमंग और उत्साह के साथ भाग लिया। जहां छोटे बच्चों ने अपने सुलेख से सबको प्रभावित किया वहीं कक्षा छठी से आठवीं तक के विद्यार्थियों ने व्यर्थ सामानों को सुंदर और अद्भुत स्वरूप प्रदान कर लोगों का मन मोह लिया। कक्षा नवीं से बारहवीं के छात्र/ छात्राओं ने विविध पाक कला का प्रदर्शन किया।इनकी पाक कला की विविधता को देखकर निर्णायक मंडल के सदस्य ही नहीं बल्कि प्रधानाचार्य भी विस्मित हो उठे। विद्यार्थियों के प्रत्येक समूह ने अलग प्रकार के व्यंजन का निर्माण किया। एक से बढ़कर एक जायकेदार व्यंजन। निर्णायक मंडल के सदस्य निर्णय लेने में भ्रमित हो रहे थे कि किस व्यंजन को सर्वश्रेष्ठ माना जाए। विद्यालय के प्रधानाचार्य स्वयं अन्य सदस्यों के साथ बच्चों द्वारा व्यंजन बनाने की विधि का निरीक्षण कर। उन्होंने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि पाक कला में निपुण होना हर व्यक्ति के जीवन का अनिवार्य अंग है। परिवार से दूर रहने पर इसकी आवश्यकता को नजरंदाज नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि किसी भी काम को सुंदर ढंग से करना ही कला है और मुझे बहुत प्रसन्नता है कि हमारे विद्यार्थी प्रत्येक क्षेत्र में अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित करने में सक्षम हैं। उन्होंने अपेक्षा व्यक्त की कि भविष्य में ये विद्यार्थी अन्य क्षेत्रों में अपने परिवार, समाज और राष्ट्र के नाम रौशन करेंगे।

0 Response to "पाक कला जीवन की सरसता का आधार - डॉ०आशुतोष मिश्रा। "

Post a Comment